Google+ Badge

Showing posts with label Monkey [B] log. Show all posts
Showing posts with label Monkey [B] log. Show all posts

Saturday, December 27, 2008

चौथा बन्दर

चौथा बन्दर

स्थान:- मकान की छत
समय:- प्रात: 6 बजे
कार्य:- ब्लाँगरी

फ़िर वही सुबह,वही छत,वही ब्लाँगिन्ग्। आज फ़िर बन्दर दर्शन हुए। यक न शुद, दोशुद [एक नही दो-दो]।
हाश्मी: बहुत खुश हो , क्य बात है? बन्दरजी!

बन्दर: बन्दर नही, ज़रदारी कहो, अब मैं भी मालदार[ज़रदार] हो गया हूँ.
हाश्मी: कोई मदारी मिल गया क्या?
बन्दर: नही, मेरे पहले ब्लाग "अथ श्री बन्दर कथा" की बदौलत्।
हाश्मी: वाव! कितने डालर मिले?
बन्दर: डालर! उसका हम क्या करे? हमे कोई जूते थोड़े ही खरीदना है!
हाश्मी: फ़िर क्या मिल गया है?
बन्दर: आम का बग़ीचा, पूरे दस पैड़ है।
हाश्मी: किसने दिया?
बन्दर: एक एन आर आई ने, वह अपने कुत्ते के नाम वसीयत करने वाला था, मगर वह किसी मंत्री पर भौंक बैठा और मारा गया। ऐसे में संयोग्वश उस एन आर आई ने मेरी "अथ श्री कथा"
पढ़ ली, इतना प्रभावित हुवा कि पहली ही तश्तरी में उड़ान भर कर मेरे पास आ पहुंचा।
इस तरह उसका 'चौपाए खाते' वाला दान मेरी झोली में आ गया। मैं , बैठे-बिठाये पंच हज़ारी हो गया। पांच हज़ार आम सालाना का मालिक!
हाश्मी: यह तुम्हारे साथ दूसरा कौन है?
बन्दर: यह मेरे ब्लोग का फ़ोलोअर है। जब से मैं ज़रदारी बना हूँ, मेरा  पीछा ही नही छोड़ रही, बन्दरी है ये, समझे ना?
हाश्मी: अब क्या करोगे?
बन्दर: ब्लाँग से अच्छा क्या काम हो सकता है, वही जारी रखूंगा।
हाश्मी: अभी क्या लिख रहे हो?
बन्दर: लिख तो लिया है, अभी तो इस चिंता में हूँ कि 'ब्लाँग एडरेस' क्या बनाऊँ? 'तीन बन्दर' तो
मनुष्य ने रजिस्टर्ड कर ही रखे है। सौचता हूँ 'चौथा बन्दर' ही नाम दे दूँ?  "बुरा मत लिखो" के सलोगन के साथ्। बाकी तीन सलोगन - बुरा न बोलना, न सुनना व न देखना का ठेका तो
मनुष्य ने उसके प्रतीक बन्दरो को सौंप निश्चिंत हो गया है। यह चौथे बन्दर की प्रेरणा मुझे आप लोगों के चौथे स्तंभ से भी मिल रही है, जो शायद लिखने-लिखाने की बाबत ही है। हालांकि
पहले तीन बन्दर भी अपना संदेश पहुंचाने में असफ़ल प्रतीत हो रहे है, फ़िर भी यह 'चौथा बन्दर'' अति आवश्यक इसलिये हो गया है कि आज कल आप लोग निर्बाध हो कर कुछ भी लिखते चले
जा रहे हो। मुझ में तो गाँधीजी बनने की यौग्यता नही मगर मैं  उस आदर्श-पुरुष को नमण कर अपना 'चौथा बन्दर' लांच कर रहा हूँ, नये वर्ष की पूर्व संधया पर, "बुरा मत लिखो'' के नारे के साथ्। तर्कवादी मनुष्य कोई गली न निकाल ले इसलिये इस नारे को ''बुरा मत छापो" के संदर्भ में भी लिया जाए।
यह बात मुझे अच्छी तरह पता है कि मनुष्य इस चौथे बन्दर को अपने तीन आदर्श बन्दरो के साथ जगह नही देंगे। फ़िर मैं इसको स्थापित कहाँ करुं?  बल्कि क्यों करूँ?,  हम बन्दर आप लोगों की तरह रुढ़िवादी नही है, कहीं टिक कर बैठना, आप लोगों की तरह कुर्सी या सिंहासन पर चिपक जाना हमारी फ़ितरत के खिलाफ़ है।
आपको इस चौथे बन्दर के दर्शन भी आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे, आपके तथा कथित निकट वर्तमान के नेताओ की जो मूर्तीयाँ  जगह-जगह पर स्थापित है;  उस पर सवार कोई बन्दर नज़र आये तो समझ लेना वही चोथा बन्दर है, प्रतीकात्मक रूप में यह कहता हुआ कि "बुरा मत लिखो",  नही तो आपकी भी मूर्ती कहीं लग जएगी!
हाश्मी: वाह-वाह! ये तो पूर ब्लाँग ही बन गया!
बन्दर: ब्लाँग नही बन्दरलाँग कहिये।

अचानक बन्दरी उछल कर बन्दर के सिर पर सवार हो गयी.....मैने आश्चर्य से पूछा…ये क्या!
बन्दर: नही समझे?…यही तो चौथा बन्दर है…बोले तो…? "बुरा मत लिखो"…हम चले…बाय!

Saturday, October 25, 2008

अथ श्री बन्दर कथा

अथ श्री बन्दर कथा

नित्यानुसार आज भी अपने घर की छत पर बैठा ब्लाँग रच रहा था कि बहुत दिनो बाद बंदर-दर्शन हुए।
समीर लालजी(उड़न तश्तरी)  की 'अथ श्री बंदर कथा' के बाद से ही यह ग़ायब था। मैं आशचर्य चकित हुवा उसके हाथ में काग़ज़-कलम देख कर! और सह्सा संबोधित भी कर बैठा, मानव जान कर; घोर आश्चर्य में पड़ गया उससे जवाब सुन कर्…………वार्तालाप प्रस्तुत है:-

हाश्मी:- कहाँ थे इतने दिन?
बंदर;- पाठशाला।
हाश्मी:- तो तुम लिखना-पड़ना सीख आए?
बंदर:- ज़रूरी था।
हाश्मी;- क्या ज़रूरत पड़ गयी?
बंदर:- मानवीय हमलो से बचाव के लिये जागरुकता आवश्यक है।
हाश्मी:- कैसा हमला? बंदर: पत्थरोँ की मार से बचने की क्षमता तो प्रकर्ति ने दी है हमे, मगर मानव अब हम पर शाब्दिक बाण चला रहा है। हाश्मी: किस तरह? बंदर: हम बंदरो को दस-दस रूपये में
ख़रीदने-बेचने की वस्तु की तरह प्रचारित कर रहा है।
हाश्मी: ओह! समीर लालजी।
बदर: कौन से लाल? नाम सुना हुवा लगता है, हम में भी कुछ लाल-लाल होते है…
हाश्मी: कुछ नही, मगर तुम लिख क्या रहे हो?
बंदर: बंदरलाँग और क्या, ईंट का जवाब अब पत्थर से ही देना पड़ेगा। [अब मुझे कुछ-कुछ समझ में आने लगा कि मामला क्या है]
हाश्मी: क्या लिख रहे हो सुनाओ…… मैं छपवा दूंगा!
बंदर: अवश्य, इसीलिये तो मैं यहाँ बैठ कर लिख रहा हूँ………सुनो… शीर्षक है … "अथ श्री मानव कथा",…।
''मनुष्य भी बड़ा अजीब प्राणी है, कभी हम बंदरो को अपना पूर्वज मानता है, कभी देवता स्वरूप जान हमारी पूजा करता है तो कभी हमे पत्थर मारता है। पूजा तो हम भी 'डारविन' की करते है जिसने हमें महिमा मंडित किया, मगर हमने तो कभी पत्थर नही मारा टाई बांधने वालो को [पीछे की चीज़ आगे लगाताहै, नकल करना
भी बराबर नही सीखा]। कभी ''मुंह चिढ़ाने'' के हमारे एकाधिकार का हनण करता है तो कभी दीवार और वृक्ष लांघने के हमारे मौलिक अधिकार का उपयोग बग़ैर अनुग्रहीत हुए करने लगता है। इनकी आबादी बढ़ना ही हमारी आबादी घटने का कारण बन गया है। ज़मीन हमारे लिये तंग होती जा रही है। पहले हम इस पर
स्वतंत्रता से विचरण करते थे। अब हमारे हिस्से में 'छते' और 'मुण्डेरे' ही बची है [भरे बाज़ारों में हमारी माँ-बहनो को मजबूरन इस पर बैठना पड़ता है]। प्रकर्ति-प्रदत्त घरो [वृक्षों] को ये बेदर्दी से काटे चला जा रहा है। पृथ्वी  पर हमारे दुशमन कुत्तो से इसने यारी बढ़ाली है उसे गौद में और गाड़ियों में लिये घूमता है।
कभी ये अपने घरों की छतो पर पापड़-बड़ी, अचार सजाये रखता था [क्या मज़ेदार दिन थे वे], अब तो कीड़े लगा सड़ा अनाज ही मिलता है इन छतो पर धूप पाने के लिये। तथाकथित मानवीय मूल्यों की गिरावट यही तक नही रुकी, अब लेखनी के माधयम से हमें अव्मूल्यीत किया जा रहा है। नाच, निर्माण और नंगेपन की कला
हमसे सीखने वाला इन्सान अब हमारी तुलना काग़ज़ी शेरो [शेयरो] से करने की जुर्रत कर रहा है।
अपने राज महलो [संसद भवनो] की उम्मीदवारी के टिकट 'बंदरबाँट'' के हमारे फ़ार्मूले के आधार पर आश्रित मनुष्य अब हमे पिंजरे में बंद देखना चाहता है। अपने मनोरंजन की वस्तु मानने लगा है हमें,
अपनी फ़्लाँप फ़िल्मों के कलाकारो से ऊब कर! हाँ- कुछ संस्कारवान लोगो ने अपनी सेनाओ को हमारा नाम प्रदान कर हमें प्रतिष्ठित भी किया है, हम उनके क्रतझ है, मगर कलम तो हमे थामना ही पड़ेगा,
अपनी अस्मिता की सुरक्षा के लिये यही एक मात्र अहिंसक और शालीन रास्ता है, और फ़िर हम तो अहिंसावादियों के प्रेरक भी रहे है।
पहला अमानवीय बलाँगर्………
श्री पुण्डाकारी…[यह मैरा बलाँगरी नाम है, असली नाम अभी प्रकट नही कर सकता अपने समाज से ब्लाँग लिखने की आझा लेना शेष है]
# इसके पहले कि मैं कोई कमेंट करता, काग़ज़ का टुकड़ा मैरे हाथ में थमा कर ये जा…वो जा…, वैसे भी बंदर लोग कमेंटस का स्वाद क्या जाने!
 ## काग़ज़ का टुकड़ा हाथ में लिये अवाक सा…इस सोच में डूब गया कि बचपन में इसी छत पर से मैरे हाथ से रोटी का टुकड़ा छीन एक बंदर चम्पत हो गया था, कही उसका कोई नाती तो यह कर्ज़ नही चुका गया?