Google+ Badge

Showing posts with label kaleidoscope. Show all posts
Showing posts with label kaleidoscope. Show all posts

Wednesday, May 11, 2011

कुछ भी तो नहीं देखा !


कुछ भी तो नहीं देखा !

 'बिजली' से पंखो को भी चलते देखा,
'पंखो' से ही बिजली  को बनते देखा.

'लादेनो-सद्दाम' बनाने वालो के,
हाथो ही हमने 'उनको' मरते देखा.

बोतल से आज़ाद किये जिन जिसने भी,
बिल आख़िर
उससे ही डरते देखा.

पाल रखा था; दूध पिलाते थे जिसको,
अपने ही मालिक को भी डसते देखा.

'अंग्रेज़ो' को मार भगाया था जिसने,
'अंग्रेज़ी' ही पर उनको मरते देखा.  

नफरत की बुनियादों पर तामीर हुई!
एसी दीवारों को हमने गिरते देखा.

हाँ! हम ही मिलकर 'सरकार' बनाते है,
'सरदारी' में अपनी ही चलते देखा!

-mansoor ali hashmi 

Sunday, November 29, 2009

टी. वी. चेनल्स /T V Channels

टी. वी. चेनल्स 

खबरों के  कुछ  चेनल बीमार नज़र आते है,
इनमे से कुछ  लोकल  अखबार  नज़र  आते  है.

बिग बोसों के  छोटे कारोबार  नज़र आते हैं,
छुट-भय्यो को,हर दिन  त्यौहार नज़र आते है.

नोस्त्रोद्र्म के चेले  तो बेज़ार नज़र आते है,
प्रलय ही के  कुछ चेनल प्रचार नज़र आते है.

कुछ चेनल तो जैसे कि सरकार नज़र आते है,
मिनिस्टरों से भरे हुए दरबार नज़र आते है.

घर का चेन भी लुटते देखा है इसकी खातिर,
आतंक ही का ये भी एक प्रसार नज़र आते है.

इतने पास से दूर का दर्शन ये करवाते है,
संजय* जैसे भी कुछ तारणहार नज़र आते है.

भविष्य फल पर टिका हुआ, अस्तित्व यहाँ देखा,
नादानों को दिन में भी स्टार* नज़र आते है.

चीयर्स बालाओं से शोहरत* का घटना-बढ़ना,
खेल-कूद में कैसे दावेदार नज़र आते है!

नूरा कुश्ती, फिक्सिंग के मतवालों की जय-जय, 
झूठ को सच दिखलाने को तैयार नज़र आते है.

'श्रद्धा' से 'आस्थाओं' से हो कर ओत-प्रोत,      
धर्म के रखवाले यहाँ सरशार* नज़र आते है.

*संजय=दूर द्रष्टा[महा भारत के एक पात्र]
*सितारे 
*शोहरत=टी.आर.पी.
*सरशार=मस्त 
-मंसूर अली हाशमी 

Sunday, February 8, 2009

kaleidocopic view

 बनना 

बस्ती जब बाज़ार बन गयी,
हस्ती भी व्यापार बन गयी।

भिन्न,विभिन्न मतो से चुन कर,
त्रिशन्कु सरकार बन गयी।

लाख टके की बात सुनी थी,
सुन्दर नैनो कार बन गयी।














अपनी ही लापरवाही तो,
आतंक का हथयार बन गयी।

लोक-तन्त्र की जय-जय,जय हो,
राजनीति घर-बार बन गयी।
Note: {Pictures have been used for educational and non profit activies. 
If any copyright is violated, kindly inform and we will promptly remove the picture.}
-मन्सूर अली हाशमी