Google+ Badge

Showing posts with label fIXING IN CRICKET. Show all posts
Showing posts with label fIXING IN CRICKET. Show all posts

Monday, June 3, 2013

याँ लूट मची है लेले !






याँ लूट मची है लेले !

आ, फिक्सिंग-फिक्सिंग खेले
ख़ुद मारे, ख़ुद ही झेले। 

ये दर्शक तो है गेले*                    *बेंडे 
चीयर-बाला इनपे ठेले . 

'श्रीनि' लगाए मेले,
बेचारे! 'संत'* अकेले.          *श्री संत 

बस कुर्सी छीन न मेरी,
'दामाद' भले ही लेले. 

आ, 'डाल मियाँ' तू अन्दर,
बाहर 'शिर्के', 'जगदाले'

'शशांक' मनोहर लेकिन,
ये 'जेटली' तो शर्मीले!

अब जांच कोई भी करले,
सब भाई है मौसेरे. 

'तू'* कर ले लाख ट्विट पर,          *'ललित मोदी'
हो कौनसे 'दूध-धुलेले' ?

'पावर'* क्यों काम न आया,           *'पंवार' का 
वो भी तो छाछ जलेले. 

अब ख़त्म करो भी झगडा,
मिल-जुल कर सारे खेले. 

--mansoor ali hashmi 

Tuesday, September 7, 2010

सट्टे पे सत्ता [७ शेर का तोहफा]

सट्टे पे सत्ता   [७ शेर का तोहफा]

'पाक ने टॉस जीता, पहले सट्टेबाजी का फैसला'

लंदन. लॉर्ड्स टेस्ट से उठे मैच फिक्सिंग के बवाल के बाद पाकिस्तान क्रिकेट टीम की हर ओर हंसी उड़ाई जा रही है। इसका नजारा रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ हुए पहले ट्वेंटी-20 मैच में देखने को मिला।

इंग्लैंड के क्रिकेट प्रशंसकों ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर जमकर फब्तियां कसीं। जब मुकाबले के लिए टॉस हो रहा था, एक दर्शक ने द सन अखबार के हवाले से कमेंट किया, पाकिस्तान ने टॉस जीता, पहले सट्टेबाजी का फैसला।
किसी समय अपनी रफ्तार से विश्वभर के बल्लेबाजों को भयभीत करने वाले शोएब अख्तर की हर गलती पर इंग्लैंड क्रिकेट प्रशंसक तालियां बजा रहे थे। जैसे ही अख्तर ने एक कैच टपकाया, आश्चर्यजनक रूप से पूरा स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।
- दैनिक भास्कर ०६-०९-२०१० 

Fixing के मामले में भी वो "पाक-साफ़" है,                                                                                                                 
जितनी भी हो कमाई करे Half-हाफ है.

मुद्दत से ग़मज़दा थे, तरसते थे दाद को,
अब हर तरफ ख़ुशी है; अजी LAUGH-लाफ है.

टोटा रनों का पड़ गया, मुश्किल नहीं है दोस्त,
अपने तो इक्तेसाद* का  चढ़ता ग्राफ है.  [economy]

अब फाख्ता उडाएंगे बन्ने मियाँ , हुज़ूर,
'गिल्ली'* उड़ाना शान के अपनी खिलाफ है.  [*बेल्स]

दब जाएगा ये 'शौर' ज़रा सब्र कीजिए,
'तफ्तीश' वाले साथ में लाये 'लिहाफ'* है. [चादर]

बेकार दौड़-भाग* से हासिल नहीं है कुछ,  [*रन]
'पीटा' नही किसी को तो चलिए "मुआफ" है. 

No-Ball  से भी रुख़ यहाँ पलटे है खेल का,
परवाह न कर वो ON है या कि OFF  है.
فکسنگ کے معاملے میں بھی وہ  "پاک-صاف" ہے
جتنی بھی ہو کمائی کرے HALF - ھاف ہے .

مدّت سے   غم زدہ تھے ترستے تھے داد کو 
اب ہر طرف خوشی ہے، اجی LAUGH-لاف ہے.

توتا رنوں کا پڑ گیا، مشکل نہیں ہے دوست
اپنے تو اکتساد کا چڑھتا  GRAPH ہے.

اب فاختہ اڑا ینگے بننے میاں حضور
گِللی* اڑانا شان کے اپنے خلاف ہے.   ]BELLS]

دب جاےگا یہ شور ذرا صبر کیجئے 
تفتیش والے ساتھ میں لائیں لحاف ہے.

بیکار دور- بھاگ سے حاصل نہی ہے کچھ
   "پیٹا" نہی کسی کو تو چلے معاف ہے.

NO-BALL سے بھی رخ یہاں پلٹے ہے کھیل کا 
پرواہ نہی وہ ON  ہے یا کے OFF  ہے.