Google+ Badge

Showing posts with label decline of moral values. Show all posts
Showing posts with label decline of moral values. Show all posts

Wednesday, April 9, 2014

चुनाव, लोकतंत्र की अज़ान* है

चुनाव, लोकतंत्र की अज़ान*  है      *Call / पुकार  

हर एक को ये गुमान है,
कि बस वही महान है। 

'वज़ीर जिसका "शाह" हो,
उसे तो इत्मीनान है। 

हो 'साहब' मेहरबान तो ,
गधा भी पहलवान है। 

है खून दाढ़ में लगा,
फंसी उसी की जान है 

वजूद इनका गर कोई,
तो सिर्फ एक 'निशान'* है       
[*चुनावी]

ये घोषणा के पत्र भी, 
छलावे ही का दान है । 

है मौल-भाव भी यहाँ,
धरम भी अब दुकान है।  

है सच क्यों पस्त-पस्त आज,
औ[र] झूठ पर उठान है ?

बने वो 'भूत' फिर रहे !
न 'शोले' है न 'शान' है। 

कहाँ है सादा लोह लोग 
ये क्या वहीं जहान है ?

यहाँ पे आदमियत अब,
पड़ी लहू-लुहान है। 

कि अब यहाँ तो जान ही ,
किसान का लगान है। 
http://mansooralihashmi.blogspot.in