Google+ Badge

Showing posts with label Superstition. Show all posts
Showing posts with label Superstition. Show all posts

Thursday, September 10, 2009

Mine Nine-Nine

9 - 9 - NO!

9--९ सुनते दिन गुजरा था,
No--No सुनते रात गुज़र गई.

खैर यही की खैर से गुजरी,
पंडित जी की जेब भी भर गई.

रस्ता काट न पाई बिल्ली,
हम सहमे तो वह भी डर गई.

काम बहुत से निपटा डाले,
काम के दिन जब छुट्टी पड़ गई.

एक सदी तक जीना होगा,
जिनकी नैना ९ से लड़ गई.

टक्कर मार के भी पछताई,
NAINO आज ये किससे भिढ़ गई.


-नन्नूर ननी नान्मी