Google+ Badge

Showing posts with label Republic Day. Show all posts
Showing posts with label Republic Day. Show all posts

Wednesday, January 25, 2012

एक जश्ने बा वक़ार है छब्बीस जनवरी

गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई , इस अवसर पर अहमद अली बर्की साहब की एक नज़्म उनकी इजाज़त लेकर पेश कर रहा हूँ:- म. हाश्मी.


[Saheb e Akhtiyar haiN Mansoor Aap ko akhtiyar hai is ka
Shukriya Janab e aali is nawaazish ke liye.
Mukhlis
Ahmad Ali Barqi आज़मी]


एक  जश्ने  बा  वक़ार है छब्बीस जनवरी 



                                                     - By  AHMAD ALI BARQI AZMI


एक जश्ने बा वक़ार है छब्बीस जनवरी, 

इक वजहे इफ़्तेख़ार है छब्बीस जनवरी.


परचम कुशाई कीजिये हरजां बसद ख़ुलूस, 

मीज़ाने ऐतेबार है छब्बीस जनवरी.


दस्तूरे हिंद का था इसी दिन हुआ नेफाज़*             *[लागू] 

इस की ही यादगार है छब्बीस जनवरी.


दुनिया में है जो हिंद की अज़मत का इक निशाँ 

वोह जश्ने शानदार है छब्बीस जनवरी.


गुल्हाए रंग रंग हैं इसके नज़र नवाज़,

सब के गले का हार है छब्बीस जनवरी.


सब के सुकूने क़ल्ब का बाईस हो यह न क्यों 

इक नख्ले साया दार है  छब्बीस जनवरी.


जितना भी दिल लगाना है इस से लगाइए 

बस प्यार, प्यार, प्यार है  छब्बीस जनवरी.


जितना भी कोई नाज़ करे इस पे है वोह कम 

'बर्की' तेरा वक़ार है  छब्बीस जनवरी. 

--डा. अहमद अली बर्की आज़मी   


Wednesday, January 26, 2011

गणतंत्र दिवस की बधाई


                            
                              अक्सर ...तो पाते है वही ; देते*   है जैसा लोग,
                        इस वास्ते तो इसका 'REPUBLIC' नाम है,
                     निर्भर हुए है खुद पे; ख़ुशी की तो बात है,  .
                        अपने ही हाथो से हमें मिलता 'इनाम' है.
                      *[कमेंट्स, मत, प्रेम, योगदान]        
                              
  
Mansoor ali Hashmi