Google+ Badge

Showing posts with label Obstacles in Writing. Show all posts
Showing posts with label Obstacles in Writing. Show all posts

Monday, February 6, 2012

'मुंह की खाने' की बात करते हो?


'मुंह की खाने' की बात करते हो?  
['उड़न तश्तरी' की आज की पोस्ट.....आलस्य का साम्राज्य और उसके बाशिन्दे   ...से प्रभावित.]
 
लिख-लिखाने की बात करते हो,
किस ज़माने की बात करते हो?

'कट' करो 'पेस्ट' उसको कर डालो,
स्याही-कागज़ ख़राब करते हो ?

काम ज़्यादा है, वक़्त की किल्लत,
क्यों पढ़ाने की बात करते हो?

अपनी-अपनी ख़बर तो सब को है,
आईना तुम क्यों साफ़ करते हो?

'चुक' कहीं तो नहीं गया है, 'ज्ञान',
आज़माने की बात करते हो !

'सोच' पर इक 'जुमूद'* सा तारी,        *[ जम जाना]
'उड़'* के जाने  की बात करते हो?      *[विचारो की उड़न तश्तरी में] 

हो 'विवादास्पद' ही लेख कोई,
गर 'कमाने'* की बात करते हो.            *[चटके बढ़वा कर]  


-Mansoor ali Hashmi