Google+ Badge

Showing posts with label Miss? uses! Facebook. Show all posts
Showing posts with label Miss? uses! Facebook. Show all posts

Friday, June 27, 2014

आस हम भी लगाए बैठे है !

आस हम भी लगाए बैठे है !

गालियाँ बदमज़ाक़ देते है 
ख़ुश्मज़ाक़ हाथो-हाथ लेते है। 

चित्र, सुन्दर लगा के* दाद तलब            [ *FB  पर ] 
खूब 'Like' जुटाएं बैठे है। 
'मर्दुए' भी ज़नाना वेषों में 
मजनूओं को रिझाए रहते है।  

'फेंकने' वाले, इत्मीनान से है 
'झेलू' अब तक उसे लपेटे है !

'चाय' की अब दूकान बंद हुई 
खाली कप है; फ़ूटी प्लेटें  है। 





{ग़ज़ल का एक शेर :
हाथ उठा कर जो ली है अंगड़ाई 
कितने दिल उसने यूं समेटे है !}

'पाँव-भाजी'  है 'आम' लोग अब तो
'हाशमी' भी 'चने-बटेटे' है !   

-- मंसूर अली हाशमी