Google+ Badge

Showing posts with label Leagalisation of Gay Marriage. Show all posts
Showing posts with label Leagalisation of Gay Marriage. Show all posts

Sunday, December 29, 2013

हम 'Mars' पे बैठे हुए धरती को तकेंगे !




हम 'Mars' पे बैठे हुए धरती को तकेंगे !

लड़को का ब्याह लड़को से ठहराएंगे जायज़ 
जनसँख्या पे कण्ट्रोल अब इस तरह करेंगे !

दूल्हा कभी दुल्हन बने, दुल्हन कभी दूल्हा !
अब दहेज़ की खातिर वो, जलेंगे न मरेंगे। 

अब बच्चो की खातिर न तलाक़ होवेंगे उनमें 
क़ाज़ी जी को फुर्सत हुई, सर्द आह भरेंगे 

बच्चे नज़र आयेंगे न अब निस्फ़ सदी बाद 
किलकारियों के बदले तब "ताली" ही सुनेंगे !

'गर्भों' का कष्ट होगा न औलाद का सुख-दुख 
'intake' जैसा होगा, वैसा ही 'हगेंगे'

तब आधी सदी बाद ये मरदाना-ज़नाने,
गायेंगे! , बजायेंगे!! या फरयाद!!! करेंगे ?
Note: {Pictures have been used for educational and non profit activies. If any copyright is violated, kindly inform and we will promptly remove the picture.  -- mansoor ali hashmi