Google+ Badge

Showing posts with label शब्दों का खेल. Show all posts
Showing posts with label शब्दों का खेल. Show all posts

Thursday, January 12, 2012

एक दे , होता डबल ! है, आजकल


एक दे , होता डबल ! है, आजकल 
['शब्दों का सफ़र' का 'बेंडा' शब्द  भी ब्लॉग रचने में सहायक होता है !...http://shabdavali.blogspot.com] 

एन्डे-बेंडे चल रहे है आजकल,
'हाथी-गेंडे' छल रहे है आजकल.

एड़े-गैरे की यहाँ पर पूछ है,
वड्डे-वड्डे जल रहे है आजकल.

'येड़े' बालीवुड में होते है सफल,
हीरो को देखा विफल है आजकल.

मूर्खता और बुद्धिमत्ता साथ-साथ,
अर्थ 'येड़ा' के डबल है आजकल.

‘एड्डु’- ‘इड्डु’ रह गए पीछे बहुत,
"येद्दू-रेड्डी"  ही 'कमल' है आजकल !

बातें 'समृद्धि' की  है चारो तरफ !
नेत्र 'माँ' के क्यों सजल है आजकल ? 

ऐसे-वैसे, कैसे-कैसे हो रहे !
रत्ती, माशा भी 'रतल'*  है आजकल.     (* १ पाउंड/आधा सेर)

बिजली का संकट यहाँ पर इन दिनों,
सूने-सूने नल रहे है आजकल.

'हाथ' तो 'हाथी' कभी, जो अब 'कमल',
दल-बदल ही दल-बदल है आजकल. 


Note: {Pictures have been used for educational and non profit activies. 
If any copyright is violated, kindly inform and we will promptly remove the picture.}
Mansoor ali Hashmi