Google+ Badge

Showing posts with label अरे ! अरे !. Show all posts
Showing posts with label अरे ! अरे !. Show all posts

Monday, February 10, 2014

अरे ! अरे !

[शब्दों का सफर  अरे...अबे...क्यों बे......... प्रेरणामयी पोस्ट  अजित वडनेरकर द्वारा  ………… ]


अरे ! अरे !

#  क्या बात कह रहे हो मियाँ ? तुम अरे ! अरे !
    याँ लग गई है वाट कबहु से खड़े-खड़े। 
    सौ-सौ निबट लिए है पे नम्बर नहीं लगा,
    तुम हो कि कह रहे हो, "मियाँ हट परे-परे",

#  पहले गया निकट, वो पलट आया उलटे पाँव  
    लिक्खा हुआ ट्रैन पे देखा प. रे. , प. रे.  

#  हम 'आर्यजन' है बात न करते 'अरे', 'वरे'
    शब्दों के धन में अपने तो मोती, रतन जड़े। 

#  'शब्दों' का ये 'सफ़र' हुआ जारी है फिर से दोस्त,
    'चल बे', 'अजित' के साथ फिर हो ले, हरे-भरे।  

-Mansoor ali hashmi