Google+ Badge

Friday, March 23, 2012

परीक्षा .....चरवाहे की !


परीक्षा .....चरवाहे की !
आज [२३-०३-२०१२] के समाचार पत्रों से प्रेरित.....




# अपनी 'भेड़ो' को हांक लाये है,
'पर्वतो' से ये भाग आये है.
# भेड़े वैसे तो शोर करती नहीं,
फिर भी 'गुपचुप' हंकाल लाये है.
# 'ऊन' है, 'दूध-ओ-गोश्त' है  इनमे,
इस लिए तो ये दिल लुभाए है. 



# 'भेड़े' बनकर न 'घोड़े' बिक जाए,
खौफ़ इनको यही सताए है.
# 'चारागाह' और भी है 'चरवाहे',
मुफ्त का 'चारा' सब को भाये है.
# 'पंजा' बालो को नोच ले न कहीं,
'संघ' के आश्रय में लाये है,
# खौफ़ है बेवफाई का इनसे !
यूं 'महाकाल' याद आये है !!
 --mansoor ali hashmi

Wednesday, March 21, 2012

NEW FORMULA


[भविष्य

by Gyandutt Pandey
"भविष्य जो आप देखते हैं, वह भविष्य आपको मिलता है।"]
----------------------------------------------------
सुन्दर डर्टी पिक्चर 
आई. टी. में है 'भविष्य' ; ये  जानकर ,   
'कर्नाटक' में हमने अपनाया इसे,   
'मोबाईल' से ही चला था काम वां, 
'आई.पोड' अब मिल गया 'गुजरात' में. 
----------------------------------------------------
कम करना है ग़रीबी, तो कम कर ग़रीब को !
थी योजना 'भविष्य' की, ग़ुरबत घटाएंगे,
रेखा 'अमीरी' ही की, अब आगे बढ़ाएंगे,  
इक रात में करोड़ों को इस पार ले लिया,
"इस तरह " भविष्य आपका उज्जवल बनाएंगे!

-Mansoor ali Hashmi