Google+ Badge

Wednesday, January 25, 2012

एक जश्ने बा वक़ार है छब्बीस जनवरी

गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई , इस अवसर पर अहमद अली बर्की साहब की एक नज़्म उनकी इजाज़त लेकर पेश कर रहा हूँ:- म. हाश्मी.


[Saheb e Akhtiyar haiN Mansoor Aap ko akhtiyar hai is ka
Shukriya Janab e aali is nawaazish ke liye.
Mukhlis
Ahmad Ali Barqi आज़मी]


एक  जश्ने  बा  वक़ार है छब्बीस जनवरी 



                                                     - By  AHMAD ALI BARQI AZMI


एक जश्ने बा वक़ार है छब्बीस जनवरी, 

इक वजहे इफ़्तेख़ार है छब्बीस जनवरी.


परचम कुशाई कीजिये हरजां बसद ख़ुलूस, 

मीज़ाने ऐतेबार है छब्बीस जनवरी.


दस्तूरे हिंद का था इसी दिन हुआ नेफाज़*             *[लागू] 

इस की ही यादगार है छब्बीस जनवरी.


दुनिया में है जो हिंद की अज़मत का इक निशाँ 

वोह जश्ने शानदार है छब्बीस जनवरी.


गुल्हाए रंग रंग हैं इसके नज़र नवाज़,

सब के गले का हार है छब्बीस जनवरी.


सब के सुकूने क़ल्ब का बाईस हो यह न क्यों 

इक नख्ले साया दार है  छब्बीस जनवरी.


जितना भी दिल लगाना है इस से लगाइए 

बस प्यार, प्यार, प्यार है  छब्बीस जनवरी.


जितना भी कोई नाज़ करे इस पे है वोह कम 

'बर्की' तेरा वक़ार है  छब्बीस जनवरी. 

--डा. अहमद अली बर्की आज़मी   


Thursday, January 12, 2012

एक दे , होता डबल ! है, आजकल


एक दे , होता डबल ! है, आजकल 
['शब्दों का सफ़र' का 'बेंडा' शब्द  भी ब्लॉग रचने में सहायक होता है !...http://shabdavali.blogspot.com] 

एन्डे-बेंडे चल रहे है आजकल,
'हाथी-गेंडे' छल रहे है आजकल.

एड़े-गैरे की यहाँ पर पूछ है,
वड्डे-वड्डे जल रहे है आजकल.

'येड़े' बालीवुड में होते है सफल,
हीरो को देखा विफल है आजकल.

मूर्खता और बुद्धिमत्ता साथ-साथ,
अर्थ 'येड़ा' के डबल है आजकल.

‘एड्डु’- ‘इड्डु’ रह गए पीछे बहुत,
"येद्दू-रेड्डी"  ही 'कमल' है आजकल !

बातें 'समृद्धि' की  है चारो तरफ !
नेत्र 'माँ' के क्यों सजल है आजकल ? 

ऐसे-वैसे, कैसे-कैसे हो रहे !
रत्ती, माशा भी 'रतल'*  है आजकल.     (* १ पाउंड/आधा सेर)

बिजली का संकट यहाँ पर इन दिनों,
सूने-सूने नल रहे है आजकल.

'हाथ' तो 'हाथी' कभी, जो अब 'कमल',
दल-बदल ही दल-बदल है आजकल. 


Note: {Pictures have been used for educational and non profit activies. 
If any copyright is violated, kindly inform and we will promptly remove the picture.}
Mansoor ali Hashmi