Google+ Badge

Monday, May 30, 2011

Shining Age


कैसा ये ज़माना है !

गोरो को भगाया अब "काले"* को बुलाना है,           *[धन]
इस देश के बाहर भी इक अपना ख़ज़ाना है.

लिस्ट हमने भिजायी है, हम 'DRONE' नहीं करते ,
'कस्साबो' को हमने तो मेहमान बनाना है.

'फिफ्टी' या 'ट्वेंटी' हो ये टेस्ट [Taste!]  हमारा है,
पैसा हो जहां ज़्यादा,उस सिम्त ही जाना है.

ये भी तो सियासत है, सत्ता से जो दूरी हो,
'केटली' को गरम रखने '[सु] शमा' को जलाना है.

ये दौरे ज़नाना है, माया हो कि शीला हो,
ममता को ललिता को अब सर पे बिठाना है.

'बॉली' न यहाँ 'वुड' है,अफवाहों का झुरमुट है,
लैला की  ये बस्ती है, मजनूं का ठिकाना है.

घोटाले किये लेकिन, 'आदर्श' नहीं छोड़ा,
मकसद ये 'बुलंदी' पर, बस हमको तो जाना है.

निर्णय  ही 'अनिर्णय' है; इस वास्ते संशय है, 
ये कैसा ज़माना है! कैसा ये ज़माना है!!
-mansoor ali hashmi 

Saturday, May 21, 2011

2 G SPECTRUM


2 G स्पेक्ट्रम 


'कनी' - मोझी, मोड़ी भी, मोई कहाए,
'triple'  नाम पाए; 'तिहाड़ी'' को जाए,
बहुत अपने 'पापा' से इनआम पाए,
फिर इक दिन वो सारे के सारे गंवाए, 
थी 'राजा' की सत्ता तो 'बलवा' भी भाए
पुरी संग सब मिलके हलवा भी खाए,
अब आटे में घाटा है क्या दिन ये आए,
जो भरना है पेट अब,तो चक्की चलाए!!!

-Mansoor ali hashmi

Thursday, May 12, 2011

A Parody




शमशाद बेगम और किशोर कुमार का गाया 'नया अंदाज़' फिल्म का एक गीत, जिसे फिल्माया गया है किशोर और मीना कुमारी पर... ये गीत उन गीतों में से एक है, जो उझे बचपन की याद दिलाते हैं.]

Meri neendon mein tum (Kishore Kumar)

BUZZ  पर आज किशोर-शमशाद  का यह गीत [मेरी नींदों में तुम, मेरे ख़्वाबों में तुम] सुन, उस धुन पर यह बन गया है:-


सीधी होती नहीं टेढ़ी कुत्तो की दुम,
गाढ़ कर के रखो कितने बरसो ही तुम.

एड फिल्मो में तुम, आई.पी.एलो  में तुम,
हम खरीदार है, जो भी बेचोगे तुम.

चढ़ रही है ग़रीबी  की रेखा इधर,
माल इस देश का बाहरी बैंको में गुम.

"न किशोरी खनक है न शम्शादी सुर,
मस्त सब हो रहे शीला-मुन्नी पे झूम."

-मंसूर अली हाश्मी 


Wednesday, May 11, 2011

कुछ भी तो नहीं देखा !


कुछ भी तो नहीं देखा !

 'बिजली' से पंखो को भी चलते देखा,
'पंखो' से ही बिजली  को बनते देखा.

'लादेनो-सद्दाम' बनाने वालो के,
हाथो ही हमने 'उनको' मरते देखा.

बोतल से आज़ाद किये जिन जिसने भी,
बिल आख़िर
उससे ही डरते देखा.

पाल रखा था; दूध पिलाते थे जिसको,
अपने ही मालिक को भी डसते देखा.

'अंग्रेज़ो' को मार भगाया था जिसने,
'अंग्रेज़ी' ही पर उनको मरते देखा.  

नफरत की बुनियादों पर तामीर हुई!
एसी दीवारों को हमने गिरते देखा.

हाँ! हम ही मिलकर 'सरकार' बनाते है,
'सरदारी' में अपनी ही चलते देखा!

-mansoor ali hashmi