Google+ Badge

Thursday, December 2, 2010

चीज़ ये क्या हम से खोती जा रही !

चीज़ ये क्या हम से खोती जा रही !

"कौड़िया" बेमोल होती जा रही,
प्रतिष्ठाए गोल होती जा रही.

'थाम-स'कते हो तो थामो साख को,
कैच उट्ठी बोल* होती जा रही.    *CVC

मोटी चमड़ी का हुआ इंसान आज,
खाल पर भी 'खोल' होती जा रही.

 'विकी' पर अब leak भी होने लगी,
'गुप्त' बाते ढोल होती जा रही.


बंद मुट्ठी लाख की माना मगर,
खुल के अब तो पोल होती जा रही.

चटपटे चैनल पे  ख़बरे अटपटी,
'बॉस' का 'बिग' रोल होती जा रही,

--mansoorali hashmi
Post a Comment