Google+ Badge

Sunday, November 15, 2009

अवमूल्यन /devaluation

अवमूल्यन 

जो बे हुनर थे आज वो इज्ज़त म'आब* है,
अच्छे भलो का देखिये ख़ाना खराब है.


ताउम्र भागते रहे जिसकी तलाश में,
पाया ये बिल अखीर* के वो तो सराब* है.


संस्कार और शरीअते सिखलाने वालो के,
हाथो में हमने देखा कि उलटी किताब है.


जीरो पे है फुगावा निरख* आसमान पर,
उलटा है गर ज़माना तो उलटा हिसाब है.


सब्जेक्ट, ऑब्जेक्ट है; फिर कैसा इम्तिहाँ?
हैरान से खड़े ये सवाल-ओ-जवाब है.

*प्रतिष्ठित,  अंत में,  मृग-तृष्णा   ,  दाम[मूल्य]


मंसूर अली हाशमी 
Post a Comment